मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन रांची में करेंगे वर्ल्ड ट्रेड सेंटर का शिलान्यास,

Hemant Soren will lay the foundation stone of World Trade Center in Ranchi.

रांची : व्यापारिक गतिविधियों को नया आयाम देने के उद्देश्य से राजधानी रांची में वर्ल्ड ट्रेड सेंटर के निर्माण का शुभारंभ हो गया है. शुक्रवार को सीएम हेमंत सोरेन ने इस वर्ल्ड ट्रेड सेंटर का शिलान्यास किया है. धुर्वा के एचईसी स्थित कोर कैपिटल एरिया में बन रहे इस वर्ल्ड ट्रेड सेंटर के शिलान्यास कार्यक्रम में श्रम मंत्री सत्यानंद भोक्ता के अलावा हटिया विधायक नवीन जायसवाल भी मौजूद रहे.

केंद्र और राज्य सरकार के सहयोग से बनने वाले इस वर्ल्ड ट्रेड सेंटर में अंतरराष्ट्रीय कारोबार से संबंधित सारी सुविधाएं एक ही परिसर में मिलेंंगी. यहां विदेश व्यापार महानिदेशालय का क्षेत्रीय कार्यालय और भारतीय निर्यात परिसंघ से जुड़े कार्यालय भी होंगे. इस बिल्डिंग में विदेश व्यापार महानिदेशालय का क्षेत्रीय कार्यालय और भारतीय निर्यात परिसंघ से जुड़े दफ्तर भी होंगे. शिलान्यास कार्यक्रम में सिडबी और उद्योग विभाग के बीच क्रेडिट गारंटी योजना के अधीन राज्य के एमएसएमई को ऋण उपलब्ध कराने हेतू एमओयू किया गया.

44 करोड़ से अधिक रुपये होंगे खर्च

रांची में वर्ल्ड ट्रेड सेंटर के निर्माण के लिए टेंडर की प्रक्रिया पूरी कर ली गयी है. वर्ल्ड ट्रेड सेंटर के निर्माण में जुडको परियोजना के कार्यान्वयन के लिए एक तकनीकी और कार्यान्वयन एजेंसी के रूप में कार्य करेगा़ वहीं इसका निर्माण उद्योग विभाग की ओर से किया जा रहा है. इसके बनाने में कुल 44 करोड़ 22 लाख 52 हजार 415 रुपये खर्च किये जायेंगे. वहीं इसे दो साल में बनाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है. वहीं बताते चलें कि वर्ल्ड ट्रेड सेंटर के निर्माण के लिए कंपनी चयन के टेंडर में चार कंपनियों ने हिस्सा लिया था.

वर्ल्ड ट्रेड सेंटर का शिलान्यास करते हुए सीएम हेमंत सोरेन ने कहा कि यह संस्था देश और दुनियां से झारखंड के छोटे बड़े औद्योगिक गतिविधियों को जोड़ेगा. जिस स्थान पर वर्ल्ड ट्रेड सेंटर खड़ा हो रहा है उसी स्थल के बगल में एचईसी है जो मदर फैक्ट्री के रूप में जाना जाता है. सीएम ने कहा कि देर से ही सही वर्ल्ड ट्रेड सेंटर को बनाने की शुरुआत हुई है, निश्चित रूप से इसका लाभ यहां के उद्योग जगत को मिलेगा. झारखण्ड ना केवल खनिज संपदा के लिए मशहूर है बल्कि बीआईटी जैसी शिक्षा संस्थान भी हैं जो देश दुनियां में नाम रोशन कर रहे हैं. ये वर्ल्ड ट्रेड सेंटर ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मजबूत करेगा. पलाश ब्रांड के जरिए महिलाएं सशक्त हो रही हैं सरकार का लक्ष्य है कि एक हजार करोड़ तक का टर्नओवर तक पलाश ब्रांड को पहुंचाया जाए.

वर्ल्ड ट्रेड सेंटर,कृषि और खाद्य उत्पाद, वस्त्र और तसर उत्पाद और इंजीनियरिंग सामान के निर्यात को प्रेरित करेगा. 2020-21 में राज्य से कुल निर्यात 1,622.31 मिलियन अमेरिकी डॉलर रहा. 2021-22 में यह बढ़कर 2,201.55 मिलियन अमेरिकी डॉलर हो गया. झारखण्ड से निर्यात होनेवाली वस्तुओं में लोहा और इस्पात, ऑटो और पुर्जे शामिल हैं. झारखण्ड में रेशम उत्पादन का बड़ा आधार है. देश में तसर रेशम का सबसे बड़ा उत्पादक है जिसका कुल उत्पादन में 76.4% है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.