पुलिस का खोजी कुत्ता समझकर शराब कारोबारियों ने, पालतू कुत्ता को जहर खिलाया

dog, fed poison to the pet dog

वैशाली : बिहार के वैशाली से एक अजीबोगरीब मामला सामने आया है. आपने कई फिल्मों में देखा होगा कि इंसान का किसी दूसरे का हमशक्ल होने से काफी बखेड़ा खड़ा हो जाता है, लेकिन यहां मामला थोड़ा अलग है. दरअसल, यहां एक पालतू कुत्ते को पुलिस का खोजी कुत्ता (sniffer dog of police ) समझकर शराब माफियाओं ने जहर देकर मार डाला. घटना के बाद कुत्ते के मालिक ने थाने में दर्ज कराया मामला. पुलिस अब पालतू डाॅगी को मारने वालों की जांच में जुटी है. घटना हाजीपुर के सदर थाना क्षेत्र के लालपोखर दिग्घी की है.

शराब माफियाओं ने पालतू कुत्ते को मारा

आरोप है कि एक घरेलू कुत्ता जो बिहार पुलिस के एक खोजी कुत्ता काले रंग के लेब्रा डॉग ‘हंटर’ की कद काठी व रंग रूप से मिलता है, उसे शराब का कारोबारियों ने मार डाला. कुत्ते के मालिक ने बताया कि उनका कुत्ता शराब माफियाओं के इलाके में पहुंच गया तो शराब कारोबारियों में हड़कंप मच गया. कुत्ते को पहले मछली मारने वाले जाल से किसी तरह पकड़ा गया, फिर उसे जहर देकर और पीट-पीटकर मार डाला कुत्ते के मालिक ने इस मामले को लेकर सदर थाना में लिखित आवेदन देकर कुत्ते की हत्या कर दिए जाने का मामला दर्ज कराया है. कुत्ता मालिक का आरोप है कि उसके कुत्ते की शक्ल पुलिस के खोजी कुत्ते से मिलती थी. .

कुत्ते के मालिक ने दर्ज कराई प्राथमिकी

सदर थाना क्षेत्र के दिघी लाल पोखर निवासी प्रभात कुमार सदर ने सदर थाना प्रभारी को लिखित आवेदन दिया है. जिसमें उन्होंने बताया है कि उनका काले रंग का लेब्रा डॉग जिसने लाल रंग का बेल्ट पहना हुआ था. उसे वह 10 मई 2020 को पटना से खरीद कर लाए थे. कुत्ते की हत्या का आरोप करीब आधा दर्जन लोगों पर लगाया गया है. आवेदन में लिखा है कि कुत्ते को मारने वाले लोग देसी- विदेशी शराब बेचने का काम करते हैं. जिन से जुड़ा एक व्यक्ति अभी भी शराब के मामले में जेल में बंद है. कुत्ते को मारने के बाद इन शराब माफियाओं से उन्हें भी खतरा है. प्रभात कुमार का कहना है कि मेरे लेब्रा डॉग को पुलिस का खोजी कुत्ता समझकर मार दिया गया है. काफी खोजबीन के बाद अगल बगल से कुछ तस्वीरें मिली है. जिसके आधार पर हमने थाने में मामला दर्ज कराया है. इसमें पांच नामजद और 2 अज्ञात के विरुद्ध एफआईआर किया गया है.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.